1971 की जंग में ढाका में एक हवाई अटैक प्लान किया गया, जहां पाकिस्तानी सेना के जनरल से लेकर कई बड़े अधिकारियों की मीटिंग होनी थी। लेकिन यह मिशन इतना आसान न था। उस जगह की न कोई जानकारी थी, न मैप। ऑपरेशन को लीड कर रहे थे विंग कमांडर बी. के. बिश्नोई। उन्होंने बताया कि कैसे पूरे ऑपरेशन के लिए उन्हें मिला था महज़ एक घंटे का समय और आख़िरी वक़्त तक बदला लक्ष्य (इस पॉडकास्ट का मक़सद किसी व्यक्ति, समूह और विचारधारा को ठेस पहुंचाना नहीं है)

यह भी सुनें : ढाई मिनट में ढेर हो गया पाकिस्तान

1971 की जंग। भारतीय वायुसेना ढाका के ऊपर थी। मैप पर उन्हें एक इमारत तो मिली, लेकिन उसका नाम वह नहीं था, जिसे टारगेट करने के लिए उन्हें भेजा गया था। विंग कमांडर बीके बिश्नोई का ख़्याल था कि उन्हें लक्ष्य का नाम बताने में चूक हुई है, लेकिन कहीं वह कोई ग़लती तो नहीं करने जा रहे थे? जानने के लिए प्ले बटन पर क्लिक करें (इस पॉडकास्ट का मक़सद किसी व्यक्ति, समूह और विचारधारा को ठेस पहुंचाना नहीं है)

आलेख रेट करें

आज ही न्यूजलेटर और नोटिफिकेशंस को सब्सक्राइब करें

हिन्दी हैं हम! भारत की दुनिया, दुनिया में भारत

Copyright @2022 BCCL. All Rights Reserved