वेस्टइंडीज के खिलाफ सीरीज के बीच भारत को कैसे लगा झटका? भारत के नाम पर विंडीज में 16 साल से दर्ज है कौन सा रेकॉर्ड? टी20 वर्ल्ड कप से पहले किन दो टीमों के खिलाफ सीरीज खेलेगा भारत? कहां होगा इस साल का एशिया कप ? जानिए खेल से जुड़ी अहम खबरें, आने वाले मुकाबलों के बारे में और साथ ही इतिहास में दर्ज दिलचस्प घटनाओं के पीछे की कहानी।


वेस्टइंडीज सीरीज के बीच भारत को झटका, चोटिल हुए जडेजा
वेस्टइंडीज के खिलाफ वनडे सीरीज से पहले भारत को बड़ा झटका लगा । टीम इंडिया के स्टार ऑलराउंडर रवींद्र जडेजा चोटिल होकर शुरुआती दो वनडे मैच से बाहर हो चुके हैं। जडेजा के दाएं घुटने में चोट लगी है। उन्हें वनडे सीरीज में टीम इंडिया का उपकप्तान बनाया गया था, लेकिन वो अब शुरुआती दो मैच नहीं खेल पाएंगे। तीसरे मैच में भी उनका खेलना तय नहीं है। बीसीसीआई ने जडेजा की चोट के बारे में जानकारी देते हुए कहा कि भारतीय टीम के ऑलराउंडर रवींद्र जडेजा के दाएं घुटने में चोट लगी है और वो वेस्टइंडीज के खिलाफ शुरुआती दो वनडे मैच से बाहर हो चुके हैं। बीसीसीआई की मेडिकल टीम उनकी देख रेख कर रही है। तीसरे वनडे में उनके खेलने या न खेलने पर फैसला बाद में लिया जाएगा।

16 साल से भारत के नाम है यह रेकॉर्ड
वेस्टइंडीज के खिलाफ वनडे सीरीज में भारत रेकॉर्ड शानदार है। पिछले 16 साल में भारत वेस्टइंडीज के खिलाफ उसके घर में ही कोई वनडे सीरीज नहीं हारा है। वेस्टइंडीज की जमीन पर भारत ने कैरेबियाई टीम के खिलाफ कुल नौ सीरीज खेली हैं। इनमें से 4 सीरीज वेस्टइंडीज और पांच सीरीज भारत के नाम रही हैं। खास बात यह है कि शुरुआती तीन सीरीज वेस्टइंडीज ने जीती थी। वहीं, बाद की चार सीरीज भारत जीता है। वेस्टइंडीज ने भारत को आखिरी बार अपने घर में साल 2006 में हराया था। इसके बाद भारत ने चार बार वेस्टइंडीज का दौरा किया है और हर बार जीत हासिल की है। 2009 से लेकर 2019 के बीच भारत और वेस्टइंडीज ने कैरेबियाई धरती पर कुल 17 मैच खेले हैं और 10 मैच भारत जीता है, जबकि चार मैच वेस्टइंडीज ने जीते हैं। तीन मैच बेनतीजा रहे हैं।

टी20 वर्ल्ड कप से पहले इन दो टीमों के खिलाफ सीरीज खेलेगा भारत
भारतीय टीम टी-20 वर्ल्ड कप से पहले ऑस्ट्रेलिया और दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ दो टी-20 सीरीज खेलेगी। ये दोनों सीरीज सितंबर-अक्टूबर में खेली जाएगी। ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ टीम इंडिया तीन मैचों की टी-20 सीरीज और दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ तीन-तीन मैचों की टी-20 और वनडे सीरीज खेलेगी। भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच पहला टी-20 मोहाली में 20 सितंबर, दूसरा टी-20 नागपुर में 23 सितंबर और तीसरा टी-20 हैदराबाद में 25 सितंबर को खेला जाएगा। इसके बाद भारतीय टीम दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ टी-20 सीरीज खेलकर टी-20 वर्ल्ड कप के लिए अपनी तैयारियों को अंजाम देगी।

बीसीसीआई ने अंपायरों के लिए बनाई ए+ कैटेगरी
बीसीसीआई ने देश के अंपायरों के लिए ए+ कैटेगरी बनाई है और इस कैटेगरी में देश के 10 सबसे बेहतरीन अंपायरों को शामिल किया गया है। इसमें आईसीसी एलीट पैनल के अंपायर नितिन मेनन के अलावा चार अंतरराष्ट्रीय अंपायर भी शामिल हैं। वहीं, ए ग्रुप में 20, बी ग्रुप में 60, सी ग्रुप में 46 और डी ग्रुप में 11 अंपायर शामिल हैं। डी ग्रुप में उन अंपायरों को रखा जाता है, जिनकी उम्र 60 से 65 साल के करीब है। पूर्व अंतरराष्ट्रीय अंपायर के हरिहरन, सुधीर असनानी और अमिएश साहेबा ने बीसीसीआई अंपायरर्स सब कमेटी के सदस्यों के साथ मिलकर सभी अंपायरों की लिस्ट बनाई थी। बीसीसीआई अपेक्स काउंसिल की बैठक में इसे मंजूरी दी गई।

दलीप ट्रॉफी और ईरानी कप शुरू करने पर विचार कर रहा बीसीसीआई
बीसीसीआई प्रतिष्ठित दलीप ट्रॉफी और ईरानी कप शुरू करने पर विचार कर रहा है। वहीं, रणजी सत्र पहले से ही उसके कार्ड पर है। पिछले तीन सत्रों से दलीप ट्रॉफी और ईरानी कप का आयोजन नहीं हो रहा था। कोरोना की वजह से पहली बार 2020 में रणजी ट्रॉफी का आयोजन भी नहीं हुआ था। बीसीसीआई की शीर्ष परिषद की बैठक में अध्यक्ष सौरव गांगुली ने कहा कि 2022-23 में संपूर्ण घरेलू सत्र का आयोजन होगा। संभावना है कि 8 सितंबर से सीनियर दलीप ट्रॉफी और 1 से 5 अक्टूबर तक ईरानी कप का आयोजन होगा। पहले दलीप ट्रॉफी पांच जोन के आधार पर होती थी। बाद में तीन टीमों का राउंड रॉबिन टूर्नामेंट होने लगा। वहीं ईरानी कप रणजी चैंपियन और शेष भारत के बीच होता है।

यूएई में होगा एशिया कप
एशिया कप टी-20 टूर्नामेंट की मेजबानी इस साल यूएई करेगा। बीसीसीआई के अध्यक्ष सौरव गांगुली ने अपेक्स काउंसिल की मीटिंग के बाद इसकी जानकारी दी। उन्होंने कहा कि एशिया कप को श्रीलंका से यूएई में शिफ्ट कर दिया गया है। गांगुली ने कहा कि यूएई ही एकमात्र ऐसा देश हैं जहां इस समय बारिश नहीं हो रही है। इससे पहले बुधवार को श्रीलंका क्रिकेट (एसएलसी) ने एशिया कप 2022 टी20 क्रिकेट की मेजबानी से इनकार कर दिया था। श्रीलंका क्रिकेट ने बुधवार को एशिया क्रिकेट परिषद (एसीसी) को इसकी जानकारी दे दी। उन्होंने बताया कि आर्थिक और राजनीतिक कारणों से वह टी 20 एशिया कप की मेजबानी करने की स्थिति में नहीं हैं।

सैनी को टीम ने दिया स्टैंडिंग ओवेशन
भारत के तेज गेंदबाज नवदीप सैनी इन दिनों अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से ब्रेक लेकर इंग्लैंड में काउंटी क्रिकेट खेल रहे हैं। वह काउंटी चैंपियनशिप के डिवीजन-1 में केंट का प्रतिनिधित्व कर रहे हैं। उन्होंने वार्विकशायर के खिलाफ काउंटी क्रिकेट में डेब्यू किया और पहली पारी में ही पांच विकेट लेकर सबको चौंका दिया। सैनी ने 2020-21 में ऑस्ट्रेलिया में बॉर्डर-गावस्कर ट्रॉफी के दौरान अंतरराष्ट्रीय डेब्यू किया था। उन्होंने सिडनी और ब्रिस्बेन टेस्ट में भारत का प्रतिनिधित्व किया था। उनके इस प्रदर्शन के लिए टीम ने उन्हें स्टैंडिंग ओवेशन दिया।

आने वाले मुकाबले
- 24 जुलाई को भारत और वेस्टइंडीज के बीच दूसरा वनडे खेला जाएगा।
- 24 जुलाई से पाकिस्तान और श्रीलंका के बीच दूसरा टेस्ट मैच शुरू होगा।
- 24 जुलाई को ही इंग्लैंड और साउथ अफ्रीका के बीच दूसरा वनडे खेला जाएगा।

सबसे कम उम्र में इंटरनैशनल क्रिकेट डेब्यू
क्रिकेट के इतिहास में कई ऐसे खिलाड़ी हुए, जिन्होंने घरेलू क्रिकेट में अपने शानदार प्रदर्शन से काफी नाम कमाया। हालांकि, इंटरनैशनल में वह नाम नहीं बना पाए। आज एक ऐसे खिलाड़ी के बारे में बताने जा रहे हैं, जिसने सिर्फ 12 साल में ही इंटरनैशनल क्रिकेट में डेब्यू कर लिया। सचिन तेंदुलकर ने जब इंटरनैशनल में डेब्यू किया था तब उनकी उम्र 16 साल 205 दिन थी। 12 साल की उम्र में डेब्यू करने वाले उस खिलाड़ी का नाम सज्जीदा शाह है और वे पाकिस्तान के हैं। बता दें कि महिला क्रिकेट में डेब्यू करने वाली सबसे युवा खिलाड़ी जर्सी की निया ग्रेग हैं, जिन्होंने सिर्फ 11 साल 40 दिन की उम्र में फ्रांस के खिलाफ अपना डेब्यू किया था। महिला टेस्ट और वनडे में यह रेकॉर्ड पाकिस्तान की सज्जीदा शाह (12 साल 178 दिन एवं 12 साल 171 दिन) के नाम है, जिन्होंने आयरलैंड के खिलाफ यह रेकॉर्ड बनाया था।

बता दें कि ICC ने अब नियम बना दिया है कि कोई भी क्रिकेटर 15 साल से कम उम्र में देश के लिए इंटरनैशनल क्रिकेट नहीं खेल सकता। सज्जीदा साल 2001 में आयरलैंड के खिलाफ कराची में खेले गए वनडे मैच में 33 रन देकर 4 विकेट लेने के बाद सुर्खियों में आईं थी। मिडिल ऑर्डर में बल्लेबाजी के साथ-साथ उन्होंने स्पिन गेंदबाजी से भी अपना कमाल दिखाया। उनका बेस्ट प्रदर्शन 2003 में एम्स्टर्डम में हुई इंटरनैशनल विमेंस क्रिकेट काउंसिल ट्रॉफी में आया, जहां उन्होंने जापान के खिलाफ हुए मुकाबले में सिर्फ 4 रन देकर 7 विकेट चटकाए थे, जिसके चलते जापान की टीम 28 रनों पर ही ढेर हो गई थी और पाकिस्तान ने 153 रनों से जीत हासिल की। यह आज भी महिला वनडे क्रिकेट इतिहास में किसी भी गेंदबाज द्वारा किया गया बेस्ट गेंदबाजी प्रदर्शन है।

आज युजवेंद्र मना रहे 32वां जन्मदिन
भारतीय लेग स्पिनर युजवेंद्र चहल आज यानी 23 जुलाई को 32वां जन्मदिन मना रहे हैं। चेस के बोर्ड से मैदान की पट्टी तक, इस खिलाड़ी ने अपने विरोधियों को चारों खाने चित्त करने में कोई कसर नहीं छोड़ी। उन्होंने चेस में जूनियर स्तर पर देश का प्रतिनिधित्व किया है। उन्होंने पहली बार 2009 में कूच बिहार अंडर-19 ट्रॉफी में 34 विकेट लेकर सबका ध्यान अपनी तरफ आकर्षित किया था। इसी साल उन्होंने हरियाणा के लिए फर्स्ट क्लास क्रिकेट में डेब्यू किया था और उन्हें मुंबई इंडियंस ने अपने साथ जोड़ा था।

चहल का करियर आईपीएल फ्रेंचाइजी रॉयल चैलेंजर्स बेंगलुरु के साथ जुड़ने के बाद बदल गया। वो 2014 में इस टीम में शामिल हुए और 2015 में उन्होंने आरसीबी के लिए 23 और 2016 में 21 विकेट लिए। इसी प्रदर्शन के बूते उन्हें 2016 में जिम्बाब्वे दौरे के लिए भारतीय टीम में चुना गया और उन्होंने 11 जून, 2016 को वनडे डेब्यू किया। इसी दौरे पर उन्होंने टी-20 डेब्यू भी किया। अगले ही साल उन्हें इंग्लैंड के खिलाफ टी-20 सीरीज के लिए दोबारा चुना गया और उन्होंने इस सीरीज में शानदार गेंदबाजी की। बेंगलुरु में हुए इस सीरीज के एक टी-20 मैच में चहल ने 25 रन देकर 6 विकेट झटके थे। यह किसी एक टी-20 में चौथा सर्वश्रेष्ठ गेंदबाजी प्रदर्शन है।

आलेख रेट करें

आज ही न्यूजलेटर और नोटिफिकेशंस को सब्सक्राइब करें

हिन्दी हैं हम! भारत की दुनिया, दुनिया में भारत

Copyright @2022 BCCL. All Rights Reserved